चित्रकूटधाम ऐसी भूमि है जहाँ जड़ी-बूटियों का अद्भुत भण्डार है। अभी यह तीर्थ पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त है यहाँ उत्पन्न होने वाली वनौषधियां विशेष गुणकारी हैं। चित्रकूटधाम में ही आयुष ग्राम बनाने के पीछे यह भी उद्देश्य था कि यहाँ पर्याप्त जड़ी-बूटियाँ की सुलभता है। इसीलिए जडी-बूटियों की उपलब्‍धता की द्रष्टि से आयुष ग्राम (ट्रस्ट) परिसर में एक विशाल वनौषधि उद्यानशाला भी तैयार की जा रही है।

जड़ी-बूटियों का संग्रह

आयुष ग्राम ट्रस्ट चिकित्सालय में रोगियों की चिकित्सा सेवा हेतु ताजी, गुणवत्तापूर्ण और वीर्यवान ५०० प्रकार की जड़ी बूटियों का संग्रह रखा गया है।

Before you apply to write a doctoral dissertation at seminararbeit in 2 wochen münster university you must have yourself graded in the relevant course.