आयुर्वेद चिकित्सा के प्रमुख सिद्धान्तों को ध्यान में रखते हुए ही आयुष ग्राम (ट्रस्ट) चिकित्सालय में चिकित्सा व्यवस्था की जाती है। पूरी सम्भावना है कि इस वर्ष यहाँ २०० रोगियों के भर्ती होने की भी सुविधा हो जाएगी।

 

आयुष ग्राम चिकित्सालय में प्रतिदिन आयुर्वेद और होम्‍योपैथी की ओ.पी.डी. संचालित की जा रही है। जिसमें योग्‍य चिकित्‍सक अपनी सेवायें दे रहे हैं। रविवार और बुधवार डॉ॰ वाजपेयी जी स्वयं ओ.पी.डी. में अपने मेडिकल टीम के साथ सेवायें देकर रोगियों को स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्रदान कर रहे हैं। यहाँ आये हुए रोगियों का नाडी परीक्षण कर औषधियाँ दी जाती हैं तथा उन्हें स्वस्थ रहने के नियम बताये जाते हैं ताकि उन्‍हें रोग और दवा दोनों से छुटकारा मिल सके।

 

 

उ.प्र., उत्‍तराखण्‍ड, म.प्र., राजस्‍थान, बिहार, झारखण्‍ड, छत्‍तीसगढ, पश्चिम बंगाल, दिल्‍ली तथा अन्‍य प्रान्‍तों और नेपाल से यहां रोगी आते हैं उन्‍हें सेवा दी जाती है।

 

 

 

आयुष ग्राम ट्रस्‍ट चित्रकूट की सेवा लेने से आपका व्‍यर्थ का खर्च बचेगा और सस्‍ती चिकित्‍सा सेवा मिलेगी

आयुष ग्राम ट्रस्‍ट के प्रमुख उद्देश्‍य और कार्य :

  • आयुष (आयुर्वेद, योग सहित प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध और होम्योपै थी) चिकित्सा पद्धति से सम्पूर्ण विश्व लाभान्वित होकर आदर्श स्वास्थ्य प्राप्त करे, इसके लिए चिकित्सालय और अनुसंधान केन्द्र, शिक्षण-प्रशिक्षण केन्द्र, औषधालय औषधि निर्माणशाला स्थापित करना।
  • अच्छी आदतों वाले नागरिक, स्त्री-पुरुषों, युवक-युवतियों को गोष्ठी, सम्मेलन के माध्यम से आयुष पद्धति का ज्ञान कराना और स्वस्थ रहने के सूत्र प्रचारित करना।
  • अच्छी आदतों वाले नागरिक स्त्री-पुरुषों, युवक-युवतियों को गोष्ठी, सम्मेलन के माध्यम से आयुष पद्धति का ज्ञान कराना और स्वस्थ रहने के सूत्र प्रचारित करना।
  • गौ संरक्षण, शाकाहार संवर्धन, वनौषधि संरक्षण हेतु उपक्रम करना।
  • संस्कृत सहित अन्य प्राचीन भारतीय भाषाओं के संरक्षण-संवर्धन हेतु प्रयास करना।
  • शिशु विकास, हृदयरोग, रीढ के विकार, जोडों के दर्द, मधुमेह, वृक्करोग (किडनी डिजीज), मिरगी, कैंसर, पेट के रोग, स्त्री-रोग आदि के रोग निदान हेतु कार्यक्रम चलाना।
  • राष्ट्र और विश्व में संस्कारवान् समाज तैयार करने हेतु युवक-युवतियों के लिए कार्यक्रम चलाना।
  • आयुष ग्राम ट्रस्ट के उद्देश्यों के अनुरूप कार्य करने वाले किसी भी वर्ग, समुदाय के स्त्री-पुरुष को सार्वजनिक रूप से सम्मानित करना।
  • पशु-पक्षियों की सेवा केन्द्र, गो-संवर्धन, वृक्षारोपण, उद्यान आदि का निर्माण कराना।
  • निर्धन, गरीब, समाज के अति पिछड़े छात्र-छात्राओं के विद्दाध्‍ययन में सहायता करना।
  • साम्प्रदायिकता, राष्ट्रीयता, लिङ्ग, जाति तथा रंगभेद को महत्व न देकर सर्वकल्याणार्थ कार्यक्रम चलाना।
  • आयुष ग्राम ट्रस्ट के उद्देश्यों के अनुरूप समाचार पत्र, पम्पलेट, पत्रिका, पुस्‍तकें व अन्य साहित्य सामग्री प्रकाशित करना।
  • पूरे देश में आयुर्वेद के प्रति लोगों को जागरुक करने तथा सम्‍पूर्ण आरोग्‍यमय राष्‍ट्र के निर्माण के लिए धन्‍वन्‍तरि परिवार की स्‍थापना करना

Shimadzu ms-tage – anwendertreffen und ms-seminar, berlin, ghostwriter seminararbeit deutschland, 07/12/2016.