ओवर विव-:

यह व्याधि किसी भी व्यक्ति को कभी भी कर्म जन्य प्रज्ञापराध के कारण हो सकती है।

यह बीमारी लाइफस्टाइल के बदलने से तथा व्रुâपसंगज कर्म के सर्योगार्थ प्रज्ञापराध के कारण आपका सत्व क्षीण होने लगता है।

इस बीमारी की उपज राजसिक, तामसिक प्रवत्तियों की अधिकता होने पर सत्व गुण की क्षय एवं विकृति के फलस्वरूप शरीर के अन्दर स्थिति दोष प्रकुपित होकर अन्यत्र स्थान मानसिक दोषों के साथ मिलकर मानसिक रोगों के लक्षणों को प्रगट करते हैं।

हमारा चिकित्सालय एडल्ट मेंटल हेल्पकेयर चिकित्सा के लिये प्रसिद्ध यहाँ पर शतप्रतिशत आयुर्वेदिक दवाओं तथा पंचकर्म चिकित्सा द्वारा रोगों को पूर्णतया लाभ पहुँचाने की हर सम्भव प्रयास करते हैं। हमारे डॉक्टर्स और टीम रोगी को ठीक करने में अपनी पूर्ण जिम्मेदारी निभाते हुये आपको रोगमुक्त करने का संकल्प की इच्छा से प्रयासरत रहते हैं।

हम लोग कभी-कभी इस रोग को ठीक करने वाले कारकों को मेंटल हेल्थ प्रोग्राम के द्वारा सभी बिन्दुओं पर प्रकाश डालकर रोगमुक्त होने में अहम भूमिका निभाते हैं।

हमारे चिकित्सालय के मेंटल केयर यूनिट में ६ बेड तथा टॉप फ्लोर की सुविधा एवं एकांत निवास की सुविधा उपलब्ध है। यह फ्लोर आयुष ग्राम चिकित्सालयम के ऊपरी भाग में स्थित है। हमेशा देख-रेख के लिये डॉक्टरों की एक टीक तथा कुछ नर्सों की ड्यूटी रहती है।

आपके मरीज को आवश्यकतानुसार चेकअप कर उनको विभिन्न प्रकार की मेडिसिन उपलब्ध सुयोग्य नसों के द्वारा उपलब्ध कराने का प्रयास किया जाता है। जिससे आपका रोगी जल्दी तथा पूर्ण रूप ठीक हो सके।

The arms circle the mouth, which is directed upward, read this dissertation away from the substrate.